kashi vishwanath mandir

वर्दी की जगह धोती-कुर्ता में नजर आएंगे काशी विश्वनाथ की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी

Posted on March 27, 2018 · Posted in अपना शहर

काशी विश्वनाथ मंदिर की सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मी अब धोती-कुर्ता पहनकर गर्भ गृह की सुरक्षा करेंगे। एसएसपी आरके भारद्वाज ने बताया काफी दिनों से प्लान के बाद सोमवार को इसकी शुरुआत 2 पुरुष कांस्टेबल के साथ की गई है। उन्होंने कहा कि पुरुष पुलिसकर्मी सफेद धोती और पीला कुर्ता पहने रहेंगे। एक्सपेरिमेंट सफल रहा तो गर्भगृह के बाहर भी पुलिसकर्मी नए ड्रेस कोड में दिखेंगे। आने वाले समय में कुछ महिला पुलिसकर्मी भी पारंपरिक ड्रेस में दिखेंगी। काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह का लाइव प्रसारण शिर्डी और बालाजी की तरह होता है। ऐसे में गर्भ गृह और बाहर सेवादार जींस टी शर्ट नहीं बल्कि धोती-कुर्ता में नजर आएंगे।

मंदिर की सुरक्षा तीन जोन में बटी है

– ग्रीन जोन, मंदिर परिसर के बाहर का इलाका है जहां से गालियां शुरू होती हैं। यहां दर्शनार्थी आसानी से विश्वनाथ गली में खरीदारी कर सकते हैं। घूम सकते है। दूसरा येलो जोन, यहां मंदिर परिसर के आस-पास लोग रहते हैं। जिनमें कइयों के आने जाने के लिए पास जारी किया गया है। इसी जोन में 4 इंट्री प्वॉइंट सरस्वती फाटक, छत्ता द्वार, ढुंढिराज गणेश और नीलकंठ है। सुरक्षा मध्येनजर नीलकंठ इंट्री प्वाइंट बंद रहता है।

1000 से ज्यादे सुरक्षाकर्मी तैनात रहते केवल रेड और येलो जोन में

रेड जोन में इंट्री करने वाला भक्त पेन, मोबाइल, कैमरा, इलेक्ट्रानिक सामान, यहां तक की नारियल भी प्रतिबंधित रहता है। तीनों जोन में दो कंपनी पीएसी, लोकल पुलिस, सीआरपीएफ, पैरा मिलिट्री फोर्स, स्पेशल कमांडो, इंटेलिजेंस, बम स्क्वॉयड की टीम 24 घंटे मौजूद रहती हैं।

– काशी विश्वनाथ शिवलिंग को श्रद्धालु बहुत देर तक स्पर्श न करे इसके लिए अरघे में लड़की का छोटा पौन मीटर का घेरा लगाया गया है। भक्तों जो भी अर्पित करना हो दूर से करें।

पूजन वैदिक, शास्त्रीय विधियों से होता है। पांच आरतियां होती हैं, जिसमें मंगला आरती, मध्यान की भोग आरती, सप्तऋषि, श्रृंगार और शयन आरती। बाबा को जल, दूध बेलपत्र धतूरा, मिष्ठान, दही, हल्दी, चंदन मदार भश्म, रुद्राक्ष माला, भांग चढ़ाया जाता है।

न्यूज़ सोर्स: भाष्कर